Skip to main content

भारत को सोने की चुडिया के साथ साथ हीरो की धरती भी कहा गया है, जानकर होश उड़ जाएंगे

दुनिया में हिरा सबसे कीमती चीज़ो में से एक है!



जाने हिरे के बारे में अनसुनी  अनोखी बाते,

दुनिया में पेहली बार हिरे की खोज आज से करीब 4000 साल पेहले हिंदुस्तान के राज्य तेलागाना,हैदराबाद शहर  गोलकोंडा में समुन्दरी  तड़ पर रेत में हुई थी,
1800 ईस्वी तक हिरे की खोज केवल हिन्दुस्तान में ही हुई थी,
हिंदुस्तान में हिरे की कई खदाने मौजूद है,मध्यप्रदेश, अरुणाचलप्रदेश और छत्तीसगढ़ जहाँ हिरे की खदाने मौजूद है,


इस दुनिया का सबसे कीमती हिरा कोहिनूर है,

कोहिनूर की इजात हिंदुस्तान में  1100 से 1300 ईस्वी के बिच  गोलकोंडा खदान में ही हुई थी,
इस नायाब हीरो को कोहिनूर का नाम नादिर शाह ने दिए था, जिनको शाह इरान के नाम से भी जाना जाता था,
कोहिनूर हिरे का असली वज़न 105.602 कट्स (21.1204g) है.




हिरा कहाँ पाया जाता है, और कैसे बनता है!

हिरा ज़मीन में 1060 किलोमीटर निचे जहाँ तापमान बहूत ज़ादा गरम होता है ये वही पाया जाता है, हिरा कार्बन से बनता है,1गिराम हिरे की कीमत 32400 रूपये होती है,




कोयले से हिरा कैसे बनता है!

इन परिस्थितियों में पेड़-पौधों में उपस्थित कार्बन 'कोलीफिकेशन' की प्रक्रिया द्वारा हजारों लाखों वर्षों में 'कोल' (पक्का कोयला) में परिवर्तित हो जाता है। किंतु यदि वहाँ का ताप पंद्रह सौ डिग्री सेंटिग्रेट, दाब सत्तर हजार एटमास्कियर हो तो कुछ कार्बन हीरे में परिवर्तित हो जाता है।







 

Comments

Popular Posts

facebook blue tick copy and paste /facebook blue tick emoji copy and paste

 facebook blue tick copy and paste /facebook blue tick emoji copy and paste

Instant approval blog commenting sites list 2023

1https://www.notes.trentgill.ca/2016/thinking-about-writing-and-code-in-education 2https://www.peluqueriaescorial.es/quienes-somos/whatsapp-image-2017-01-11-at-13-03-12#comment-76819 3http://blog.havaianasaustralia.com.au/2016/11/sculpture-highlights.html?showComment=1627756946390#c929345318065788289 4https://cinecrowd.com/en/node/639?page=23#comment-441598 5https://www.themousefactory.com/qualities-of-a-good-cleaning-company/#comment-11277 6http://gretnadays.com/photos/emodule/489/eitem/251 7https://www.spd-fraktion-kw.de/?p=1948#comment-1291565 8https://www.bvja.nl/bedrijfsopvolgingsfaciliteit-bij-vastgoedexploitatie/#comment-488137 9https://heisei.pro/archives/663#comment-567663 10http://shaobinli.is-programmer.com/posts/420.html 11http://www.vis-man.ir/en/News/ID/249/Baghe-Eram-Eram-Garden#Comment95100 12http://bikramyogaleicester.co.uk/service/blog/2014/10/15/my-1st-ashtanga-yoga-class 13http://beta.lekhafoods.com/india/biryani/mutton-biryani/kolkata-mutton-biryani.asp

challan se kaise bache/Echallan से कैसे बचे trick 2022 new sigma traffic rule

अगर आप भी एचालान से बचना चाहते है तो इन ज़रूरी बातो का ख़ास ख़याल रखे १. ड्राइविंग करते समय सबसे पेहले हेलमेट या सीटबेल्ड का दिहान रखे २. अपनी गाड़ी के पुरे कागज़ जैसे गाड़ी की आरसी इन्शुरन्स पोल्लुशण आदि डॉक्यूमेंट ज़रूर लेकर चले ३. गाड़ी चलाने से भी पेहले ड्राइविंग लाइसेंस अपने साथ रखे जाने चालान से बचने की कुछ चमत्कारी ट्रिक आप जब भी रेड लाइट पर रुके तो दोनों पैर ज़मीन पर रखे और ग्रीन लाइट के बाद जिस दिशा में आप मुडे उस तरफ का इंडिकेटर जलाना ना भुला चाहे वो आपका ही हाथ क्यों ना हो कानो में हैडफ़ोन या म्यूजिक का कोई सामान ना हो हाथ या कान के पास आपका फ़ोन मोबाइल नहीं होना चाहिए  यातायात नियमो का पालन करें  Wrong challan By Traffic Police:  अगर आप कार, मोटरसाइकिल या स्कूटर, कुछ भी चलाते हैं तो कभी ना कभी आपका चालान जरूर ही कटा होगा और अगर चालान नहीं कटा है तो यह काफी अच्छी बात है. हालांकि, अगर चालान कटा है और आपको लगता है कि ट्रैफिक पुलिस ने आपका चालान गलती से काट दिया है या फिर आपकी कोई गलती नहीं होने के बावजूद पुलिस ने आपका चालान काटा है तो आपको पता होना चाहिए कि ऐसी स्थिति से कैसे

Aligarh News: छुट्टा गोवंशों को किया पानी टंकी की चहारदीवारी में बंद, प्रशासन ने कराया मुक्त

अलीगढ़ के गांव थानपुर ग्रामीणों ने छुट्टा गोवंशों से परेशान होकर गोवंशों को गांव में बनी पानी की टंकी की चहारदीवारी में बंद कर दिया। एसडीएम व बीडीओ ने देर रात गांव पहुंचकर गोवंशों को मुक्त कराया।   छुट्टा गोवंशों के आतंक से परेशान अलीगढ़ के गांव थानपुर ग्रामीणों ने रविवार की शाम खेतों से पकड़ कर 65 गोवंशों को गांव में बनी पानी की टंकी की चहारदीवारी में बंद कर दिया। ये गोवंश काफी दिनों से फसलों को नुकसान पहुंचा रहे। सूचना पर एसडीएम व बीडीओ ने देर रात गांव पहुंचकर गोवंशों को मुक्त कराया। ग्रामीणों का कहना है कि गोवंशों की समस्याओं से कई बार अधिकारियों को अवगत कराया गया लेकिन कोई समाधान नहीं निकल सका। जिसके बाद रविवार को खेतों से पकड़ कर गोवंशों को बंद कर दिया गया। गोवंशों को बंधक बनाए जाने की सूचना पर एसडीएम गभाना कुंवर बहादुर सिंह व बीडीओ चंडौस राकेश निराला अपनी पूरी टीम के साथ गांव थानपुर पहुंच गए और ग्रामीणों को समझा कर शांत किया। एसडीएम के आदेश पर रात को ही गोवंशों को गाड़ियों से लोधा की धुनार गोशाला के लिए भेज दिया गया। बीडीओ चंडौस ने किया गोशालाओं का निरीक्षण सोमवार को सीडीओ के आदे